BLOG
आओ अँधेरे मिटायें !
19.06.2019 Spreading Goodness Ravi Sharma
आओ अँधेरे मिटायें !

आओ अँधेरे मिटायें !


 


आओ अँधेरे मिटायें ! 


आओ दिये हम जलायें !!


जीवन की इस डगर पे ,


दिलों में दिवाली जगायें !!


 


देश की अशिक्षा को


सत्य की अभिक्षा को


जीवन में फसादों को


ख़ुशी के अवसादों को


आओ हम मिल हटायें !


 


आओ अँधेरे मिटायें !


आओ दिये हम जलायें !!


 


बच्चों के रोज़गार पर 


भीख की भरमार पर


गरिमा के उधार पर


राजनीतिक व्यापार पर


सब मिल रोक लगायें !


 


आओ अँधेरे मिटायें !


आओ दिये हम जलायें !!


 


भ्रूण के हत्यारों को


घूमते व्यभिचारों को


देह लिप्त व्यापारों को


काले उन करारों को


आओ सबक सिखायें !


 


आओ अँधेरे मिटायें !


आओ दिये हम जलायें !!


 


भ्रष्टाचार के कलंक को


रोज़ बढ़ते इस डंक को


हर तरफ घूसखोरी को


रोज़ बढ़ती हुई चोरी को


चलो सब मिल हटायें !


 


आओ अँधेरे मिटायें !


आओ दिये हम जलायें !!


 


धर्मों के बीच भेद को


मानवता पर खेद को


राजनीति की चाल को 


बैर की इस मशाल को 


आओ आज सब बुझायें !


 


आओ अँधेरे मिटायें !


आओ दिये हम जलायें !!


 


जब तक कोई भूखा रहे


भीख में कोई रूखा रहे


कोई बिन लिखा पढ़ा रहे 


जब तक पीछे खड़ा रहे 


तब तक ना थकान लायें !


 


आओ अँधेरे मिटायें !


आओ दिये हम जलायें !!


 


जब सबके पास शिक्षा हो


ना कोई मांगता भिक्षा हो


सबके पास कोई आधार हो


ना बुजुर्गिअत की मार हो


तभी असली खुशियाँ मनायें !


 


आओ अँधेरे मिटायें !


आओ दिये हम जलायें !!


जीवन की इस डगर पे ,


दिलों में दिवाली जगायें !!


DIWALI, HINDI POEM, LIGHT, RAVI SHARMA, ROSHINI, SHIKSHA

  • Let’s Spread Goodness Together !! - Team Prama Jyoti Foundation